राजनीतिज्ञ केशरी नाथ त्रिपाठी का जीवन परिचय: Keshari Nath Tripathi Biography in Hindi

Keshari Nath Tripathi Biography in Hindi, केशरी नाथ त्रिपाठी विकिपीडिया, Keshari Nath Tripathi Age, Keshari Nath Tripathi News, Keshari Nath Tripathi Death, केशरी नाथ त्रिपाठी बायोग्राफी, केशरी नाथ त्रिपाठी का जीवन परिचय, केशरी नाथ त्रिपाठी इलाहाबाद, केशरी नाथ त्रिपाठी की जीवनी, Keshari Nath Tripathi Son, Keshari Nath Tripathi Net Worth, Keshari Nath Tripathi Wikipedia, Keshari Nath Tripathi Bahu

Keshari Nath Tripathi Biography in Hindi

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी का 88 साल की उम्र निधन हो गया. केशरी नाथ त्रिपाठी बीजेपी के सीनियर लीडर होने के साथ-साथ एक साहित्यकार भी थे. आज हम इस लेख के माध्यम से केशरीनाथ त्रिपाठी के कुछ खास जीवन पहलू पर प्रकाश डालेगे.

Keshari Nath Tripathi Biography in Hindi

नामकेशरी नाथ त्रिपाठी
जन्म तिथी10 नवंबर 1934
जन्म स्थानइलाहाबाद (प्रयागराज) उत्तर प्रदेश
राष्ट्रीयताभारतीय
धर्महिंदू
कास्टब्राह्मण
प्रोफेशनपॉलीटिशियन और इलाहाबाद हाईकोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता
मृत्यु8 जनवरी 2023

केशरीनाथ त्रिपाठी की फैमिली (Keshari Nath Tripathi Family)

10 नवंबर 1934 को इलाहाबाद में जन्मे केशरी नाथ त्रिपाठी की माता का नाम शिवा देवी और पिता का नाम हरीश चंद्र त्रिपाठी था. वह अपने पिता की सात संतानों, चार पुत्रियों तथा तीन पुत्रों में सबसे छोटे थे। घर में इन्हें ‘भइया’ के नाम से संबोधित किया जाता था.

keshari nath tripathi family

साल 1958 में केशरी नाथ त्रिपाठी का विवाह सुधा त्रिपाठी के साथ हुआ. सुधा त्रिपाठी वाराणसी के मशहूर स्वतंत्रता सेनानी सत्य नारायण मिश्र की पुत्री थी. केशरी नाथ त्रिपाठी और सुधा त्रिपाठी के 3 बच्चे नीरज त्रिपाठी (इलाहाबाद हाईकोर्ट में अधिवक्ता के पद पर कार्यरत), नमिता त्रिपाठी और निधि त्रिपाठी (सशस्त्र सेना मुख्यालय सेवा नई दिल्ली में अधिकारी पद पर कार्यरत) है. साल 2016 में केशरी नाथ त्रिपाठी की पत्नी सुधा त्रिपाठी की ब्रेन स्ट्रोक के कारण मृत्यु हो गई थी.

केशरी नाथ त्रिपाठी की पढ़ाई लिखाई (Keshari Nath Tripathi Education)

केशरी नाथ त्रिपाठी ने कक्षा 1 तक की पढ़ाई सेंट्रल हिंदू स्कूल, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश से की थी. इसके बाद कक्षा 2 से कक्षा 8 तक की पढ़ाई सर्वया इंटर कॉलेज, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश से की थी. फिर इलाहाबाद विश्वविद्यालय से कानून की पढ़ाई पूरी की, बाद में चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय, मेरठ, उत्तर प्रदेश से साहित्य (लिटरेचर) की डिग्री भी हासिल की.

ये भी पढ़े >> सावित्रीबाई फुले का जीवन परिचय

केशरी नाथ त्रिपाठी का करियर (Keshari Nath Tripathi Career)

Keshari Nath Tripathi Biography in Hindi
फोटो – google

वकालत की पढ़ाई पूरी करने के बाद केशरी नाथ त्रिपाठी ने उत्तर प्रदेश की बार काउंसिल में वकील के रूप में नामांकन कराया और इलाहाबाद उच्च न्यायालय में मशहूर अधिवक्ता जगदीश स्वरूप के नेतृत्व में वकालत की ट्रेनिंग हासिल की. ट्रेनिंग पूरी होने के बाद केशरी नाथ त्रिपाठी ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में अपनी वकालत जारी रखी. केशरी नाथ त्रिपाठी चुनाव कानून के विशेषज्ञ थे और उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई, चौधरी चरण सिंह, सुब्रमण्यम स्वामी, राज नारायण, एचएन बहुगुणा, कल्याण सिंह जैसे दिग्गजों के मुकदमे भी लड़े.

इलाहाबाद हाईकोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता रहे केशरी नाथ त्रिपाठी की गिनती बीजेपी के सीनियर नेताओं में होती थी. उनका राजनीतिक करियर कुछ इस प्रकार था :-

  • साल 1946 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आर एस एस) के साथ जुड़े और 1952 में दक्षिणपंथी राजनीतिक दल जनसंघ में शामिल होकर अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की.
  • 1977 – 1980 तक झूसी विधानसभा सीट से विधायक (जनता पार्टी) रहे.
  • 1977 – 1979 तक यूपी में कैबिनेट मंत्री (संस्थागत वित्त और बिक्री कर विभाग) रहे.
  • अप्रैल 1980 में भाजपा में शामिल हुए.
  • 1989, 1991, 1993, 1996 और 2002 में इलाहाबाद दक्षिण विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने गए.
  • 1991 – 1993 तक और 1997 – 2004 तक उत्तर प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष रहे.
  • साल 2004 में यूपी बीजेपी के अध्यक्ष बने
  • साल 2012 में इलाहाबाद दक्षिण विधानसभा सीट से चुनाव लड़े और हार गए.
  • 27 नवंबर 2014 – 15 अगस्त 2015 तक बिहार के राज्यपाल के रूप में कार्यभार संभाला.
  • 6 मई 2015 – 19 मई 2015 तक मेघालय के 14वें राज्यपाल के रूप में नियुक्त किए गए और अतिरिक्त प्रभार के रूप में 4 अप्रैल 2015 – 25 मई 2015 तक मिजोरम के राज्यपाल का पद भी संभाला.
  • 20 जून 2017 – 29 सितंबर 2017 तक बिहार के राज्यपाल के रूप में नियुक्त किये गए.
  • 24 जुलाई 2014 – 29 जुलाई 2019 तक पश्चिम बंगाल के 27वें राज्यपाल रहे और अतिरिक्त प्रभार के रूप में साल 2018 में त्रिपुरा के राज्यपाल का पद भी संभाला.

केशरी नाथ त्रिपाठी की नेट वर्थ (Keshari Nath Tripathi Net Worth)

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार केशरी नाथ त्रिपाठी लगभग 2 करोड 76 लाख रुपए की संपत्ति छोड़ गए हैं.

साहित्य से था प्यार

केशरी नाथ त्रिपाठी पॉलीटिशियन और वकील के अलावा एक कुशल लेखक और साहित्यकार भी थे. साहित्य साधन पर नजर दौड़ाएं तो पूर्व राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी ने सात कविताएँ और एक दोहा संग्रह लिखा. जो इस प्रकार है :-

  • मनोनुकृति
  • आयु पंख
  • चिरंतन
  • उन्मुक्त
  • मौन और शून्य
  • जख्मों पर सबाब
  • खयालों का सफर
  • निर्मल दोहे (दोहा संग्रह)

वर्ष 2015 में सभी काव्य संग्रहों को मिला कर डा. प्रकाश त्रिपाठी के संपादन में ‘संचयिता : केशरीनाथ त्रिपाठी’ का प्रकाशन हुआ. उनके भाषणों का संकलन भी है ‘समय-समय पर’ नाम से। द इमिजेज (मनोनुकृति का अंग्रेजी में अनुवाद) तथा मनोनुकृति काव्य संग्रह पर आलोचनात्मक कृति मनोनुकृति : रचना और आलोचना (स.प्रकाश त्रिपाठी ) पुस्तकें भी उन्होंने लिखीं.

पुरस्कार और उपलब्धियां

उन्हें साहित्य के क्षेत्र में भारत गौरव सम्मान, विश्व भारती सम्मान, उत्तर प्रदेश रत्न सम्मान, हिंदी गरिमा सम्मान, आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी सम्मान, साहित्य वाचस्पति सम्मान, अभिषेकश्री सम्मान, बागीश्वरी सम्मान, चाणक्य सम्मान (कनाडा में) , काव्य कौस्तुभ सम्मान से भी नवाजा गया था.

लेटेस्ट अपडेट

Share this:

Leave a Comment