Maharashtra Kishori Shakti Yojana 2022: किशोरी शक्ति योजना आवेदन फॉर्म

Maharashtra Kishori Shakti Yojana Application Form 2022 | महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना ऑनलाइन आवेदन | Kishori Shakti Yojana Maharashtra | kishori shakti yojana in maharashtra |  महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना फॉर्म पीडीएफ | Maharashtra Kishori Shakti Yojana PDF Form

Maharashtra Kishori Shakti Yojana

इस बात में कोई शक नहीं है की महिला और पुरुष संसार का प्रतिनिधित्व करने वाले रथ के दो पहियों के समान हैं लेकिन एक कड़वा सच ये भी है की पुरुष प्रधान इस देश में कई बार महिलाएं अपने हक़ से वंचित भी रह जाती है. महिलाओं को उनका हक़ दिलाने के लिए केंद्र सरकार विभिन्न प्रकार की योजनायें चला रही है ताकि महिलाओं को उनका हक मिले और उन्हें भी आगे बढ़ने के समान अवसर मिले. इसी कड़ी में महाराष्ट्र सरकार भी महिलाओ को सशक्त बनाने के लिए विभिन्न प्रकार की योजनाएं चला रही है जिनमे से एक है महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना.

आज हम आपको इस लेख के माध्यम से Maharashtra Kishori Shakti Yojana (MKSY) से जुड़ी सारी जानकारी मुहैया कराएंगे. जैसे इस योजना के तहत किशोरियों को किस प्रकार का लाभ मिलेगा, इस योजना को लागू करने का क्या उद्देश्य है, इस योजना का लाभ हासिल करने के लिए कौन-कौन पात्र है, इस योजना के लिए आवेदन कैसे करना है आदि. इसलिए आप इस आर्टिकल को अंत तक ज़रूर पढ़े.

Maharashtra Kishori Shakti Yojana 2022

महिलाओ के खिलाफ भेदभाव को कम करने के लिए और राज्य में महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के लिए महाराष्ट्र सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार की योजनाएं चलाई जा रही है. इसी क्रम में महाराष्ट्र सरकार ने हाल ही में राज्य की किशोरियों के लिए महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना 2022 का शुभारंभ किया है. इस योजना के क्रियान्वयन की ज़िम्मेदारी महाराष्ट्र सरकार ने महिला एवं बाल विकास विभाग को सौंपी है. 

महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना (एमकेएसवाई) का लाभ केवल राज्य की गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाली बीपीएल कार्ड धारक परिवारों की बालिकाओं को ही दिया जायेगा. इस योजना के तहत 11 वर्ष से लेकर 18 वर्ष तक की आयु की उन किशोरियों को लाभान्वित किया जाएगा जो किसी कारणवश स्कूल या कॉलेज छोड़ चुकी है. इस योजना के माध्यम से चयनित किशोरियों को नज़दीकी आंगनबाड़ी केंद्र में नि:शुल्क औपचारिक एवं अनौपचारिक शिक्षा के साथ-साथ विशेष प्रकार का प्रशिक्षण भी दिया जायेगा ताकि बालिकाएं स्वरोजगार एवं व्यवसाय के लिए तैयार हो सके. बता दे की प्रशिक्षण की अवधि छः माह की होगी. 

शिक्षा और प्रशिक्षण के साथ-साथ किशोरियों को नि:शुल्क प्रतिदिन पौष्टिक आहार भी मुहैया कराया जायेगा. पौष्टिक आहार देते समय इस बात का खासतौर से ध्यान रखा जायेगा की प्रत्येक किशोरी को प्रतिदिन 600 कैलरी और 18 से 20 ग्राम प्रोटीन मिल रहा है या नहीं यानी किशोरियों को पौष्टिक आहार के ज़रिये प्रतिदिन 600 कैलोरी ऊर्जा और 18 से 20 ग्राम प्रोटीन उतनी ही मात्रा में दी जाएगी जितनी गर्भवती या स्तनपान कराने वाली मां को दी जाती है.

इसके अलावा महाराष्ट्र के महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा आंगनबाड़ी स्तर पर आयोजित होने वाले किशोरी मेंलो और किशोरी आरोग्य शिविरों जैसे कार्यक्रमों के माध्यम से किशोरियों को पौष्टिक आहार और व्यक्तिगत स्वच्छता के बारे में भी विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा. 

महाराष्ट्र सरकार किशोरी शक्ति योजना के माध्यम से ऐसी किशोरियों का शारीरिक, सामाजिक, मानसिक और भावात्मक रूप से विकास करना चाहती है. जिसके लिए राज्य सरकार प्रत्येक किशोरी पर हर साल 1 लाख खर्च करेगी. इस योजना का पूरा संचालन राज्य सरकार की देखभाल में महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा किया जाएगा.

अगर देखा जाये तो महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना का असल मकसद किशोरियों (बालिकाओं) को शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक रूप से सशक्त बनाना है. 

ये भी पढ़े – 

महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना के लाभ एवं विशेषताएं 

  • महाराष्ट्र सरकार ने हाल ही में किशोरी शक्ति योजना का शुभारंभ किया है. 
  • महाराष्ट्र सरकार ने अपने यहां की किशोरियों (बालिकाओं) को शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक रूप से सशक्त बनाने के लिए महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना को शुरू किया गया है क्योंकि एक महिला का शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक विकास किशोरावस्था में ही होता है. 
  • Maharashtra Kishori Shakti Yojana के माध्यम से 11 से लेकर 18 वर्ष तक की किशोरियों को शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत करने के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा.
  • यह प्रशिक्षण ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों के आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से दिया जाएगा. 
  • इस योजना के संचालन की ज़िम्मेदारी महाराष्ट्र सरकार ने महिला एवं बाल विकास विभाग को सौंपी है. महिला एवं बाल विकास विभाग की निगरानी में ही किशोरियों को आंगनबाड़ी केंद्र के माध्यम से प्रशिक्षण दिया जायेगा.
  • इस योजना का लाभ गरीब परिवारों की ऐसी किशोरियों को दिया जायेगा, जिनकी उम्र 11 वर्ष से लेकर 18 वर्ष तक की है और किसी कारणवश स्कूल या कॉलेज छोड़ चुकी है. 
  • महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना के माध्यम से किशोरियों को नि:शुल्क औपचारिक एवं अनौपचारिक पढ़ाई के साथ-साथ विशेष प्रकार का प्रशिक्षण भी दिया जायेगा ताकि बालिकाएं स्वरोजगार एवं व्यवसाय के लिए तैयार हो सके.
  • प्रशिक्षण की अवधि छः माह की होगी. 
  • प्रशिक्षण के दौरान किशोरियों को प्रतिदिन पौष्टिक आहार भी दिया जायेगा ताकि किशोरियों को रोज़ाना 600 कैलरी और 18 से 20 ग्राम प्रोटीन मिल सके. 
  • किसी भी किशोरी को महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना का लाभ उठाने के लिए कहीं भी कोई आवेदन या पंजीकरण नहीं करना होगा.
  • प्रदेश के हर गांव-शहर में आंगनबाडी कार्यकर्ता घर-घर जाकर हर परिवार में किशोरी बालिकाओं की जानकारी लेंगी. जानकारी लेने के बाद उनका इस योजना के लिए चयन किया जाएगा. महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना 2022 के लिए चयनित किशोरियों को राज्य सरकार द्वारा नि:शुल्क प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा. साथ ही उन्हें आंगनबाडी की ओर से स्वास्थ्य कार्ड दिया जाएगा. इसके जरिए समय-समय पर उनके स्वास्थ्य का नि:शुल्क ख्याल रखा जाएगा.
  • हर तीन महीने बाद लाभार्थी किशोरी के स्वास्थ्य की जांच की जाएगी और उनके लंबाई, वजन आदि का रिकॉर्ड रखा जाएगा. 
  • राज्य सरकार इस योजना के तहत चयनित प्रत्येक किशोरी पर साल में 1 लाख रूपये खर्च करेगी. 
  • इस योजना पर सरकार की हर साल 3.8 लाख करोड़ रुपए की राशि खर्च होगी.
  • इसके अलावा किशोरियों को गृह प्रबंधन, अच्छा खाना बनाने और खाने की आदतें, मासिक धर्म के दौरान व्यक्तिगत स्वच्छता एवं देखभाल के बारे में भी प्रशिक्षित किया जाएगा.
  • इस योजना का मुख्य बिंदु राज्य की बीपीएल कार्ड धारक परिवारों की 11 वर्ष से 18 वर्ष तक की आयु की किशोरियों को शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता और रोजमर्रा की दैनिक जीवन में आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए आत्मनिर्भर एवं सशक्त बनाना है. 
  • सरकार Maharashtra kishori Shakti Yojana से गरीब बालिकाओं को शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ्य बनाएगी जिससे वह अपना और अपने परिवार का विकास करके देश के विकास में अपना योगदान देंगी।
  • इसके अलावा यह योजना आने वाले समय में भारत के अन्य राज्यों की सरकारों को अपने यहां की किशोरियों का विकास करने के लिए प्रेरित करेगी। जिससे पूरे भारत में किशोरियों के विकास करने को लेकर जागरूकता उत्पन्न होगी।

Maharashtra Kishori Shakti Scheme का उद्देश्य

महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना महाराष्ट्र सरकार द्वारा महिला सशक्तिकरण की भावना को आगे बढ़ाने के लिए चलाई गई एक योजना है, जिसके तहत राज्य में रहने वाली गरीब परिवारों की स्कूल या कॉलेज छोड़ चुकी 11 वर्ष से 18 वर्ष तक की किशोरियों को शारीरिक, मानसिक और सामाजिक ज्ञान प्रदान करके उनकी निर्णय लेने की क्षमता को मजबूत करना है. बालिकाओं को स्वास्थ्य, गृह प्रबंधन, अच्छा खाना खाने, मासिक धर्म के दौरान अपनी व्यक्तिगत स्वच्छता और देखभाल करने आदि के प्रति जागरूक करके उन्हें इतना मज़बूत बनाना है की वह अपने जीवन में आने वाली समस्याओं का डटकर सामना कर सके. इसके अलावा उन्हें प्रशिक्षण के दौरान औपचारिक और अनौपचारिक रूप से शिक्षा के साथ-साथ रोजगार एवं व्यवसाय करने हेतु प्रशिक्षित भी किया जाएगा.

महाराष्ट्र किशोरी शक्ति स्कीम के लिए कौन-कौन पात्र है

  • आवेदक किशोरी महाराष्ट्र की स्थाई निवासी होना चाहिए. 
  • किशोरी का ताल्लुक गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाली बीपीएल कार्ड धारक परिवार से होना चाहिए. 
  • किशोरी की उम्र 11 वर्ष से लेकर 18 वर्ष तक होनी चाहिए. 

महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना के लिए ज़रूरी दस्तावेज़ 

  • आधार कार्ड
  • जन्म प्रमाण पत्र
  • स्कूल के शैक्षिक प्रमाण पत्र
  • बीपीएल राशन कार्ड
  • स्कूल छोड़ने का प्रमाण पत्र (TC)
  • जाति प्रमाण पत्र (अगर लागू हो तो)
  • पासपोर्ट साइज़-फोटो
  • मोबाइल नंबर 

Maharashtra Kishori Shakti Yojana के मुख्य बिंदु

योजना का नाम महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना
किसने आरंभ की महाराष्ट्र सरकार ने
किस मंत्रालय द्वारा संचालित की जा रही है महिला व बाल विकास विभाग
लाभार्थी

राज्य के गरीब परिवारों की ऐसी बालिकाएं जिनकी उम्र 11 वर्ष से लेकर 18 वर्ष है और किसी कारणवश अपना स्कूल या कॉलेज छोड़ चुकी है

लाभ

महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना के माध्यम से चयनित किशोरियों को आंगनबाड़ी केंद्र के माध्यम से नि:शुल्क विशेष प्रकार का प्रशिक्षण दिया जायेगा और साथ में नि:शुल्क पौष्टिक आहार भी मुहैया कराया जायेगा 

ऑफिशियल वेबसाइट 

womenchild.maharashtra.gov.in

महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना के लिए आवेदन कैसे करे?

महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना के तहत गरीब परिवार की पात्र किशोरियों को कही भी जाने की ज़रुरत नहीं है बल्कि आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार होगी:-

  • सबसे पहले आंगनबाड़ी केन्द्रों से जुड़ी आंगनबाड़ी सहायिका घर-घर जाकर पात्र किशोरियों को चयनित करने के लिए सर्वे करेंगी. 
  • आंगनबाड़ी सहायिकाओ द्वारा चयनित किशोरियों की लिस्ट महाराष्ट्र के महिला एवं बाल विकास विभाग को भेजी जाएगी. 
  • इसके बाद महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा चयनित किशोरियों की जांच की जाएगी. जो किशोरी जांच में सही पाई जाएगी उसे महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना के तहत पंजीकृत किया जायेगा. 
  • पंजीकरण होने के बाद किशोरियों को किशोरी कार्ड दिए जाएंगे. इस कार्ड के माध्यम से पंजीकृत किशोरियों को महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना के सभी लाभ मुहैया कराये जाएगे. 

ये भी पढ़े – 

FAQ

महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना क्या हैं?

महाराष्ट्र किशोरी शक्ति योजना के तहत महाराष्ट्र सरकार राज्य के गरीब परिवारों की ऐसी बालिकाएं जिनकी उम्र 11 वर्ष से लेकर 18 वर्ष तक है और किसी कारणवश अपना स्कूल या कॉलेज बीच में ही छोड़ चुकी है, उन्हें आंगनबाड़ी केन्द्रों पर नि:शुल्क प्रशिक्षण के साथ-साथ नि:शुल्क पौष्टिक आहार भी मुहैया कराती है ताकि किशोरियों को शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक रूप से सक्षम बनाया जा सके.

Leave a Comment