Kisan Mitra Urja Yojana 2022: मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना Registration

किसान मित्र योजना 2022 राजस्थान | मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना राजस्थान | mukhyamantri kisan mitra urja yojana rajasthan | mukhyamantri kisan mitra urja yojana apply online | mukhyamantri kisan mitra urja yojana online registration | mukhyamantri kisan mitra energy yojana

Kisan Mitra Urja Yojana

आज के दौर में खेती के ज्यादातर कामो में बिजली का इस्तेमाल काफी ज्यादा होता है जैसे बुवाई से लेकर कटाई तक आदि. खासकर ट्यूबवेल या आधुनिक सिंचाई पद्धतियों में बिजली की काफी खपत होती है. जिसकी वजह से किसानो का बिजली का बिल भी काफी ज्यादा आता है और नतीजन किसानो की खेती की लागत भी बढ़ जाती है. इसी समस्या को ध्यान में रखते हुए कि किसानो पर बिजली के बिल का भार ज्यादा ना पड़े राजस्थान सरकार ने 17 जुलाई 2021 को मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना (Mukhyamantri Kisan Mitra Urja Scheme) का शुभारंभ किया था. 

आज के इस लेख में हम आपको Mukhyamantri Kisan Mitra Urja Yojana से जुड़ी सारी जानकारी मुहैया कराएंगे जैसे इस योजना को लागू करने का क्या उद्देश्य है, इस योजना के क्या लाभ हैं, इस योजना का लाभ लेने के लिए कौन-कौन पात्र है, इस योजना के लिए आवेदन कैसे करना है आदि. इसलिए आप इस आर्टिकल को अंत तक ज़रूर पढ़े.

Mukhyamantri Kisan Mitra Urja Yojana 2022 (मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना क्या है)

किसानो की आय बढ़ाने के लिए राजस्थान सरकार केंद्र सरकार के साथ मिलकर कई प्रकार की लाभकारी योजनाएं चला रही है. इसी क्रम में राजस्थान सरकार ने 17 जुलाई 2021 को मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना (Mukhyamantri Kisan Mitra Urja Scheme) का शुभारंभ किया था. राजस्थान सरकार ने इस योजना के क्रियान्वयन की जिम्मेदारी ऊर्जा विभाग को सौंपी है.

इस योजना के तहत राजस्थान सरकार किसानों को सिंचाई के लिए बिजली पर अनुदान का लाभ प्रदान कर रही है। इस योजना के तहत किसानों को बिजली बिल पर 1,000 रुपए महीना और साल में 1,000 रुपए की सब्सिडी दी जा रही है। यह अनुदान बिजली बिल में समायोजन के माध्यम से दिया जा रहा है. किसी माह में बिल राशि एक हजार रुपये से कम होने पर अनुदान की शेष राशि का लाभ उसी वित्तीय वर्ष के आगामी माह में समायोजित किया जा रहा है, ताकि छूट का पूरा लाभ किसानो को मिल सके. 

वहीं दूसरी तरफ राज्य में घरेलू उपभोक्ताओं को भी बिजली के बिल पर 600 से 750 रुपये महीने की सब्सिडी दी जा रही है. इस योजना के चलते अब राज्य के कई किसान और घरेलू उपभोक्ताओं के बिल जीरो हो गये हैं.

गहलोत सरकार का दावा है कि किसान मित्र ऊर्जा योजना लागू होने के बाद से प्रदेश के लगभग 7 लाख 50 हजार किसानों का बिजली बिल शून्य हो गया है. यानि इन किसानों को मुफ्त बिजली मिल रही है. इस योजना के माध्यम से खासतौर से ग्रामीण किसानों को बड़ी राहत मिल रही है. राज्य सरकार ने 17 जुलाई, 2021 को इस योजना की शुरूआत की और इसका लाभ बिलिंग माह मई, 2021 से दिया गया. मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना का लाभ सामान्य श्रेणी ग्रामीण मीटर एवं फ्लैट रेट श्रेणी के सभी कृषि उपभोक्ताओं को दिया जा रहा है.

राज्य के 50 प्रतिशत किसानों को मिल रही फ्री बिजली

राज्य सरकार के मुताबिक किसान मित्र ऊर्जा योजना के लागू होने के बाद प्रदेश के 12 लाख 76 हजार किसानो को बिजली बिलों में 1 हजार 324 करोड़ रुपए का अनुदान दिया गया और करीब 7 लाख 49 हजार किसानों का बिजली बिल शून्य आ रहा है. इस लिहाज से प्रदेश के करीब 50 प्रतिशत किसानों को बिजली नि:शुल्क मिल रही है. जो कि राजस्थान सरकार के लिए एक बड़ी उपलब्धि है. 

मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना से राज्य के किसान काफी खुश

राजस्थान सरकार द्वारा 17 जुलाई 2021 को शुरू की गई मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना से राज्य के किसान काफी खुश हैं क्योंकि इस योजना के तहत राजस्थान सरकार प्रदेश के कृषि कनेक्शन उपभोक्ताओं को प्रतिमाह ₹1000 और प्रति वर्ष ₹12000 की सब्सिडी प्रदान कर रही है.  

मालूम हो कि इन दिनों प्रदेश सरकार राज्य के अन्नदाताओं को खुश करने का लगातार प्रयास कर रही है. इससे पहले राज्य सरकार किसानों की फसलों को आवारा पशुओं और नीलगाय से बचाने के लिए तारबंदी योजना लेकर आई थी, तारबंदी योजना के तहत  किसानों को अपने खेतो की तारबंदी करने के लिए अधिकतम 48,000 रुपए तक की सहायता दी जाती है और इसके लिए राजस्थान सरकार ने किसानों से आवेदन भी मांगे थे. 

क्या कहते हैं किसान

इस योजना के लागू होने से राज्य के किसानों को बहुत राहत मिली है. दौसा जिले के किसान कमलेश शर्मा के मुताबिक मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना शुरू होने से पहले उन्हें हर साल कृषि बिल के रूप में 10 से 12 हजार रुपये चुकाने पड़ते थे लेकिन जब से योजना शुरू हुई है तब से उनका बिजली बिल शून्य आ रहा है और इस पैसे का उपयोग वे कृषि से जुड़ी दूसरी गतिविधियों में कर पा रहे हैं.

डूंगरपुर जिले के किसान शंकर का कहना है कि उनका प्रतिमाह कृषि बिजली बिल एक हजार रुपये तक आता था, लेकिन किसान मित्र ऊर्जा योजना में एक हजार रुपये की सब्सिडी मिलने के कारण उनका कृषि बिजली बिल अब शून्य आता है. इससे खेती करना आसान हुआ है. हर माह बिजली के बिल को जमा कराने से भी मुक्ति मिली है.

ये भी पढ़े – 

किसान मित्र ऊर्जा योजना का लाभ एवं विशेषताएं 

  • मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना का शुभारंभ राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत के द्वारा 17 जुलाई 2021 को किया गया था. 
  • इस योजना को प्रदेश भर में लागू करने की ज़िम्मेदारी ऊर्जा विभाग को सौंपी गई है. 
  • इस योजना को आरंभ करने की घोषणा वर्ष 2021-22 के बजट में की गई थी।
  • इससे प्रतिवर्ष एक हजार 450 करोड़ रूपये का वित्तीय भार आएगा।
  • इस योजना के तहत किसानो को बिजली बिल की राशि समय पर जमा करवाने पर 1,000 रुपए प्रतिमाह अधिकतम 12,000 रुपए प्रतिवर्ष की सब्सिडी प्रदान की जा रही है. 
  • इस योजना का लाभ उन्ही किसानों को दिया जाएगा जिनका कोई बिजली बिल बकाया नहीं है. 
  • यदि किसान द्वारा बकाया राशि का भुगतान कर दिया जाता है तो उस स्थिति में अनुदान राशि आगमी बिजली के बिल में देय होगी.
  • इस योजना के लागू होने के बाद अगर किसी लाभार्थी किसान का बिजली बिल 1,000 रूपये प्रतिमाह से कम आता है तो अनुदान की शेष राशि का लाभ उसी वित्तीय वर्ष के आगामी माह में समायोजित किया जायेगा, ताकि छूट का पूरा लाभ किसानो को मिल सके. 
  • Mukhyamantri Kisan Mitra Urja Yojana 2022 का लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थी को अपनी आधार संख्या को बैंक खाते से जोड़ना अनिवार्य होगा।
  • गहलोत सरकार के मुताबिक 12 लाख 76 हजार कृषि उपभोक्ताओं को बिजली बिलों में 1 हजार 324 करोड़ रुपए का अनुदान दिया है. करीब 7 लाख 49 हजार किसानों का बिजली बिल शून्य हुआ है.
  • इसके अलावा प्रदेश के सभी घरेलू उपभोक्ताओं को भी 600 से 750 रुपये प्रतिमाह तक की सब्सिडी दी जा रही है.
  • राज्य सरकार के मुताबिक अगस्त 2022 तक 1 करोड़ 20 लाख घरेलू उपभोक्ताओं को लगभग 2 हजार 174 करोड़ रुपये का अनुदान दिया है. इससे 37 लाख 97 हजार घरेलू उपभोक्ताओं का बिजली बिल शून्य हुआ है.
  • इस योजना के लागू होने से किसानों की आय में वृद्धि हुई है. 
  • इसके अलावा इस योजना के माध्यम से कृषि उपभोक्ता बिजली की बचत करने के लिए भी प्रोत्साहित होंगे. 

किसान मित्र ऊर्जा योजना का उद्देश्य 

प्रदेश में कृषि कार्य को बढ़ावा देने के साथ-साथ राज्य के किसानों को आर्थिक रूप से मजबूत और आत्मनिर्भर बनाना ही इस योजना का मुख्य उद्देश्य है. बता दे कि राजस्थान की इकोनॉमी में कृषि क्षेत्र का योगदान 25.56 प्रतिशत है. इसलिए इस क्षेत्र पर राज्य सरकार का विशेष ध्यान रहता है. 

मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना 2022 हेतु पात्रता

  • इस योजना का लाभ केवल राजस्थान के किसानों को ही दिया जाएगा. 
  • आवेदक किसान का आधार कार्ड बैंक खाते से लिंक होना अनिवार्य है. 
  • इसके अलावा इस योजना का लाभ उन्हीं कृषि उपभोक्ताओ को दिया जाएगा, जिनका कोई बिजली बिल बकाया नहीं है. 

Mukhyamantri Kisan Mitra Urja Yojana 2022 के लिए कौन-कौन पात्र नहीं है?

  • राज्यसभा / लोकसभा / विधानसभा के पूर्व एवं वर्तमान सदस्य. 
  • राज्य सरकार के पूर्व या वर्तमान मंत्री.
  • नगर निकायों / ज़िला परिषद के वर्तमान अध्यक्ष.
  • केंद्र या राज्य, विभाग एवं इनके क्षेत्रीय इकाई / राज्य सरकार के मंत्रालय / PSE एवं संबंध कार्यालय, सरकार के अधीन स्वायत्त संस्थाओ के कार्यरत या सेवानिवृत्त पदाधिकारी एवं कर्मी.
  • आयकरदाता.
  • पेशेवर डॉक्टर / इंजिनियर / वकील / चार्टर्ड अकाउंटेंट / आर्किटेक्ट. 

मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना 2022 के लिए ज़रूरी दस्तावेज़ 

  • आधार कार्ड
  • बैंक खाता 
  • निवास प्रमाण पत्र
  • राशन कार्ड
  • आय प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर

Kisan Mitra Urja Yojana के मुख्य बिंदु

योजना का नाम मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना
योजना की शुरुआत कब हुई 17 जुलाई 2021 को
किसने आरंभ की राजस्थान सरकार ने
किस मंत्रालय द्वारा संचालित की जा रही है ऊर्जा विभाग
लाभार्थी

राज्य के किसान

योजना का उद्देश्य

किसानों की आय बढ़ाने और उन्हें बिजली के खर्च से चिंता मुक्त करने की ओर एक बड़ी पहल

अधिकारिक वेबसाइट energy.rajasthan.gov.in

मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना 2022 के लिए आवेदन कैसे करे?

  • सबसे पहले आपको अपने नज़दीकी बिजली विभाग मैं जाना होगा.
  • इसके बाद आपको वहां से मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना का आवेदन पत्र प्राप्त करना होगा. 
  • अब आवेदन पत्र में मांगी गई सभी जानकारी दर्ज करे और संबंधित दस्तावेजों को आवेदन पत्र के साथ अटैच करे. 
  • इसके बाद आवेदन पत्र विद्युत विभाग में जमा करा दें. 
  • इस प्रकार आप Kisan Mitra Urja Yojana के अंतर्गत आवेदन कर सकते है. 

ये भी पढ़े – 

CM Kisan Mitra Urja Yojana Helpline Number / Tollfree Number

इस योजना से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी के लिए आप नीचे दिए गए हैं हेल्पलाइन नंबर या ईमेल आईडी पर संपर्क कर सकते हैं.

  • हेल्पलाइन नंबर – 0141-2293814
  • ई-मेल आईडी- [email protected]

FAQ

मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना कब शुरू हुई?

राजस्थान की गहलोत सरकार ने 17 जुलाई 2021 को मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना की शुरुआत की थी. इस योजना के तहत राज्य के कृषि उपभोक्ताओं को बिजली के बिल पर प्रतिमाह ₹1000 और हर साल ₹12000 की सब्सिडी प्रदान की जाएगी.

मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करे?

मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना के तहत रजिस्ट्रेशन करने के लिए आपको सबसे पहले अपने नजदीकी बिजली घर में जाना होगा और वहां से मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना का आवेदन पत्र प्राप्त करना होगा. फिर आवेदन पत्र में मांगी गई सभी जानकारी दर्ज करके और संबंधित दस्तावेजों को आवेदन पत्र के साथ अटैच करके बिजली घर में जमा कराना होगा. इस प्रकार आपका मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना के तहत आवेदन पूर्ण हो जायेगा.

Leave a Comment