Join Telegram group Join Now

Mukhyamantri Nishulk Dava Yojana 2023: मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना आवेदन प्रक्रिया, लाभ व पात्रता

मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना 2023, मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना राजस्थान, Rajasthan Free Medicine Scheme, CM Free Dava Yojana Rajasthan, Mukhyamantri Nishulk Dava Yojana Application Form, निशुल्क दवा योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

Mukhyamantri Nishulk Dava Yojana Rajasthan

यह बात तो हम सभी जानते हैं कि हमारे भारत देश में ऐसे कई नागरिक हैं जो आर्थिक स्थिति कमजोर होने की वजह से अपना सही ढंग से इलाज तक भी नहीं करवा पाते हैं. ऐसे नागरिकों के लिए भारत सरकार के साथ-साथ राज्य सरकार भी कई तरह की योजनाएं चला रही हैं. जिनमें से एक है राजस्थान की मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना. आज हम आपको इस लेख के माध्यम से Mukhyamantri Nishulk Dava Yojana से जुड़ी सारी जानकारी मुहैया कराएंगे जैसे इस योजना को लागू करने का क्या उद्देश्य है, इस योजना का क्या लाभ हैं, इस योजना का लाभ लेने के लिए कौन-कौन पात्र है, इस योजना के लिए आवेदन कैसे करना है आदि ! इसलिए आप इस लेख को अंत तक ज़रूर पढ़े.

Mukhyamantri Nishulk Dava Yojana 2023 

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 2 अक्टूबर 2011 को मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना का शुभारंभ किया था और इस योजना के संचालन की जिम्मेदारी राज्य के चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग को सौंपी. इस योजना के अंतर्गत राजस्थान सरकार राजकीय / सरकारी अस्पतालों में आने वाले सभी मरीजों को सर्वाधिक उपयोग में आने वाली आवश्यक दवाईयां 2 अक्टूबर 2011 से निशुल्क उपलब्ध करवा रही है. साथ ही सरकारी अस्पतालों में थेलेसीमिया और हिमोफिलिया के मरीजों को चिकित्सा सुविधा भी निशुल्क उपलब्ध करवाई जा रही है. 

Rajasthan Free Medicine Scheme के तहत सामान्य रोगी को 3 दिन की दवा निशुल्क उपलब्ध कराई जाती है. बहुत ज्यादा जरूरी होने पर या विशेष परिस्थितियों में रोगी को 7 दिन की दवा निशुल्क उपलब्ध कराई जाती हैं. इसके अलावा लंबी बीमारी जैसे ब्लड प्रेशर / डायबिटीज / हार्ट डिजीज / मिर्गी / एनीमिया के मरीजों को कम से कम 1 महीने तक की दवाई निशुल्क उपलब्ध कराई जाती है. आउटडोर रोगियों को निशुल्क दवाईयां ओपीडी के समयानुसार उपलब्ध कराई जाती हैं और इंडोर एवं आपातकालीन मरीजों के लिए निशुल्क दवा की उपलब्धता 24 घंटे सुनिश्चित की गई है. यदि किसी कारणवश दवाइयों की अनुपलब्धता होती है तो इस स्थिति में राज्य चिकित्सालयों की मांग अनुसार स्थानीय स्तर पर दवाइयां उपलब्ध करवाई जाएंगी.

राज्य सरकार निशुल्क दी जा रही दवाओं की गुणवत्ता को लेकर भी बहुत सतर्क है. सभी चिकित्सा संस्थानों में दवा पहुंचाने से पहले, दवाओं की गुणवत्ता की जांच ड्रग टेस्टिंग लैबोरेट्रीज द्वारा कराई जाती है. जांच में खरा उतरने के बाद ही दवाईयों को आम जनता के लिए अस्पतालों में भिजवाया जाता है. इस योजना के अंतर्गत सभी चिकित्सा संस्थानों में दवा वितरण करने के लिए जिला मुख्यालय पर 40 जिला औषधि भंडार ग्रह स्थापित किए गए हैं. लगभग 796 प्रकार की दवाईयां, 174 सर्जिकल और 79 सूचर्स निशुल्क इस योजना के माध्यम से उपलब्ध करवाएं जाएगे. 

मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के अंतर्गत E-Aushadhi नामक सॉफ्टवेयर भी लॉन्च किया गया है. इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से दवाईयों की टेंडरिंग करने, इंडेंट भेजने, चिकित्सा संस्थानों पर दवाइयों की उपलब्धता की स्थिति जानने, घोषित औषधियों के बारे में सूचना प्रेषित करने आदि में मदद मिलती है तथा औषधियों का समुचित उपयोग सुनिश्चित होता है. अस्पतालों को दी जाने वाली दवाइयों का वितरण भी इस सॉफ्टवेयर में दर्ज होता है. इसके अलावा इसमें सभी चिकित्सा संस्थानों की सूची के साथ-साथ दी जाने वाली दवाइयों की सूची भी उपलब्ध है. 

ये भी पढ़े – 

मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के लाभ एवं विशेषताएं 

  • 2 अक्टूबर 2011 को राजस्थान की सरकार ने आम जनमानस के लिए इस योजना का शुभारंभ किया था. 
  • इस योजना के सफल कार्यान्वयन हेतु चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने राजस्थान चिकित्सा सेवा निगम लिमिटेड (RMSCL) को पब्लिक लिमिटेड कंपनी के रूप में नियुक्त किया गया है. 
  • इस योजना के तहत राज्य की जनता को बेहतर स्वास्थ्य के लिए सामान्य उपयोग आने वाली आवश्यक दवाइयों का निशुल्क वितरण किया जा रहा है. साथ ही रोगियों का नि: शुल्क परीक्षण भी किया जा रहा है. 
  • इस योजना के लागू होने से आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को अपनी बीमारी के ईलाज लिए दवा पर एक एक भी रुपया खर्च करना नहीं पड़ेगा. 
  • इसके अलावा धन की कमी के चलते चिकित्सा सेवाओं से वंचित लोगों का इलाज भी संभव हो पाएगा. 
  • Mukhyamantri Nishulk Dava Yojana के तहत दवाईयां व इंजेक्शन के साथ-साथ सामान्यतः उपयोग में आने वाले सर्जिकल आईटम्स जैसे नीडल, डिस्पोजेबल सिरीज, आईवीए ब्लड ट्रांसफ्यूजन सेट व टांको हेतु सूजर्स भी निशुल्क उपलब्ध करवाए जा रहे हैं. 
  • औषधियों, सर्जिकल एवं सूचर्स की आपूर्ति सुनिश्चित करने के उद्देश्य से राज्य में 5 औषधि भंडार गृहों का निर्माण किया गया है और औषधियों के रख-रखाव हेतु हैवी ड्यूटी रैक्स, पैलेट्स एयर ट्रक्स, आवश्यक फर्नीचर आदि उपकरण का इन्तेजाम किया गया है. 
  • स्वाइन फ्लू के उपचार में उपयोग में ली जाने वाली ओसाल्टामावीर औषधि की 4 स्ट्रेन्थ्स (30mg, 45mg, 75mg कैपसूल एवं 75ml सिरप) एवं नवजात बच्चों को लगने वाला विटामिन K1 इंजेकशन को आवश्यक दवा सूची में शामिल किया गया है. 
  • मलेरिया रोग के ईलाज हेतु पांच प्रकार के ए.सी.टी (Artemisinin Combination Therapy) पैक्स को भी दवा सूची में शामिल किया गया है. 
  • किशोरी बालिकाओं को सैनेटरी नैपकिन वितरण योजना अन्तर्गत वितरित किये जाने वाले बैल्टलैस सैनेटरी नैपकिन को निगम की आवश्यकता दवा सूची में शामिल किया गया है. 
  • पूरे देश में राजस्थान पहला ऐसा प्रदेश है जहां पर मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के साथ-साथ मरीज को जांच और दवाइयां निशुल्क मिल रही हैं. 
  • गहलोत सरकार ने कोरोनाकाल में भी मरीजों को महंगी -महंगी दवाईयां और जीवनरक्षक इंजेक्शन निशुल्क उपल्बध कराये. 
  • निशुल्क दवा योजना राजस्थान सरकार की उच्च गुणवत्ता व कम लागत की चिकित्सा सेवाएं प्रदान करने की दिशा में ऐतिहासिक और संवेदनशील पहल है. 

मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना का मुख्य उद्देश्य 

मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना एवं निशुल्क जांच योजना को लागू कर आमजन के स्वास्थ्य में निरंतर सुधार की प्रक्रिया को तेज़ किया जा रहा है. इस योजना का लाभ राज्य की संपूर्ण जनता के लिए उपलब्ध कराया जा रहा है ताकि राज्य का कोई भी व्यक्ति दवा के अभाव में चिकित्सा सुविधा से वंचित ना रहे. राजस्थान मेडिकल सर्विसेज कॉरपोरेशन के माध्यम से आज राज्य के लगभग 17550 चिकित्सा संस्थानों में निशुल्क दवाएं उपलब्ध कराई जा रही है. 

मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के लिए कौन-कौन पात्र है?

  • राजस्थान के स्थाई निवासी
  • राजकीय अस्पतालों में उपचार के लिए आने वाले समस्त बहिरंग (OPD) मरीज
  • राजकीय अस्पताल में भर्ती (IPD) मरीज
  • समस्त सरकारी अधिकारी, कर्मचारी, और सेवानिवृत्त राज्यकर्मी
  • बीपीएल / स्टेट बीपीएल
  • आस्था कार्डधारी
  • एचआईवी एड्स के मरीज
  • वृद्धावस्था पेंशनधारी
  • विकलांग व विधवा पेंशनधारी
  • जोधपुर शहर की चार नट व सांसी बस्तियों में रहने वाले परिवार
  • अंत्योदय अन्न योजना के लाभार्थी (बांरा जिले के एपीएल सहरिया परिवार)
  • अन्नपूर्णा योजना के लाभार्थी
  • कथौडी जनजाति के समस्त परिवार
  • मेहरानगढ़ दुर्ग जोधपुर दु:खान्तिका के पीड़ित परिवार
  • बीपीएल / स्टेट बीपीएल परिवार की निसंतान दंपत्ति
  • थेलेसीमिया और हेमाफोलिया से पीड़ित मरीज (2 अक्टूबर 2011 से)
  • अनाथालय के बच्चे
  • शारीरिक व मानसिक रुप से कमज़ोर बच्चे
  • नारी निकेतन में रहने वाली महिलाएं

Mukhyamantri Nishulk Dava Yojana हेतु आवश्यक दस्तावेज़

  • उपरोक्त पात्र दस्तावेज़ (अगर लागू हो तो)
  • आधार कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर

Rajasthan Nishulk Dava Yojana के मुख्य बिंदु

योजना का नाम मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना
योजना की शुरुआत कब हुई 2 अक्टूबर 2011 को
किसने आरंभ की राजस्थान सरकार ने
किस मंत्रालय द्वारा संचालित की जा रही है चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा
लाभार्थी

आर्थिक रुप से कमज़ोर वर्ग

योजना का लाभ

निशुल्क दवा उपलब्ध कराना

मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना ऑफिशियल वेबसाइट health.rajasthan.gov.in

ये भी पढ़े – 

Rajasthan Nishulk Dava Yojana 2023 के लिए आवेदन कैसे करे?

मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना का लाभ लेने के लिए आप अपने नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर अपनी बीमारी के इलाज के लिए डॉक्टर साहब से संपर्क करें. जिसके बाद डॉक्टर द्वारा लिखी गई सभी दवाइयां आपको अस्पताल में ही नि:शुल्क उपलब्ध कराई जाएगी. इसके लिए आपको किसी प्रकार के आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है. मूल रूप से राजस्थान के निवासी ही इस योजना का लाभ उठा सकते हैं. 

मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना मेडिसिन लिस्ट

  • सबसे पहले इस लिंक (Essential Drugs List) पर क्लिक करे. 
  • Essential Drugs List पर क्लिक करने के बाद EDL-Rajasthan के लिंक पर क्लिक करे. 
  • अब एक पीडीएफ फाइल डाउनलोड होगी.
  • इस पीडीएफ फाइल को ओपन करके आप इस योजना में सभी शामिल की गई दवाइयों की पूरी लिस्ट देख सकते है. 

Rajasthan Nishulk Dava Yojana Helpline Number / Tollfree Number

मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना से संबंधित शिकायतों के निस्तारण के लिए एक नंबर जारी किया है. आम मरीज या मरीज के परिजन निशुल्क दवा योजना में हो रही परेशानी की शिकायत नीचे दिए गए नंबर पर कर सकते है. 

  • 0141- 2228059

  • 9887027251

FAQ

राजस्थान में मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना कब शुरू हुई?

गहलोत सरकार ने 2 अक्टूबर 2011 को आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना का शुभारंभ किया था. यह योजना काफी सफल भी रही है. जी हां, पूरे देश में राजस्थान पहला ऐसा प्रदेश है जहां पर मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के साथ-साथ मरीज को जांच और दवाइयां निशुल्क मिल रही हैं. 

मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना में कितनी दवाइयां शामिल है?

मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के अंतर्गत फिलहाल 796 प्रकार की दवाईयां, 174 सर्जिकल और 79 सूचर्स निशुल्क उपलब्ध करवाएं जाएगे. इस योजना के तहत सरकार की ओर से ब्रेन स्ट्रोक, कार्डियक, आर्थराइटिस, आंख, जनरल मेडिसिन, ग्रोथ हार्मोन्स, डायबिटीज और कैंसर की लगभग हर तरह की दवाइयां फ्री दी जाएंगी. इसके अलावा लिवर सिरोसिस, गेस्ट्रो कैंसर, ब्लड प्रेशर, विटामिन सहित सभी तरह की दवाइयां भी फ्री दी जाएंगी.

Join Telegram group Join Now

Leave a Comment