Rajiv Gandhi Kisan Beej Uphar Yojana 2022: राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना आवेदन

Rajiv Gandhi Kisan Beej Uphar Yojana 2022 Kya Hai | राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना आवेदन प्रक्रिया | Kisan Beej Uphar Yojana Draw Result | राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना राजस्थान 2022 | राजस्थान फ्री ट्रैक्टर योजना | राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना लॉटरी रिजल्ट | Kisan Beej Uphar Yojana Rajasthan 

Rajiv Gandhi Kisan Beej Uphar Yojana

किसानों के लिए केंद्र सरकार के साथ-साथ राज्य सरकार भी समय-समय पर तरह-तरह की योजनाओं का शुभारंभ करती रहती है. इसी क्रम में राजस्थान सरकार ने भी हाल ही में राज्य के किसानों की उन्नति के लिए राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना का शुभारंभ किया है. इस योजना की शुरुआत प्रदेश सरकार ने 22 अक्टूबर 2022 को की थी और इसके संचालन की जिम्मेदारी राजस्थान बीज निगम को सौंपी गई है. इस योजना के तहत किसानों को उनकी खेती के लिए विभिन्न प्रकार के उपकरण उपहार मुहैया कराए जाएंगे. इसलिए आज हम आपको इस लेख के माध्यम से Rajiv Gandhi Kisan Beej Uphar Yojana से जुड़ी सारी जानकारी मुहैया कराएंगे. जैसे इस योजना का क्या लाभ है, इस योजना को लागू करने का क्या उद्देश्य है, इस योजना का लाभ हासिल करने के लिए कौन-कौन पात्र है, इस योजना के लिए आवेदन कैसे करना है आदि. 

Rajiv Gandhi Kisan Beej Uphar Yojana 2022 – राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना क्या है ?

राजस्थान सरकार ने 22 अक्टूबर 2022 को दिवाली के शुभ अवसर पर राज्य के किसानों की बेहतरी के लिए राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना की शुरुआत की है. इस योजना के तहत इस साल राज्य के किसानों को करोड़ों रुपए के उपहार दिए जाएंगे. बता दें कि राजस्थान बीज विकास निगम इस साल रबी की फसल के लिए सस्ते व गुणवत्ता युक्त बीज उपलब्ध कराने के साथ-साथ पहली बार किसानों के लिए नई और बड़ी योजना लेकर आई है. इस योजना के अंतर्गत प्रदेश सरकार निगम द्वारा राजस्थान के प्रत्येक जिले में 51 उपहार किसानों को लॉटरी के माध्यम से प्रदान करेगी. 

राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना के तहत प्रदेश के प्रत्येक जिले में प्रथम पुरस्कार के रूप में एक-एक किसान को ट्रैक्टर दिया जाएगा, यानि राज्य सरकार प्रदेश के 33 जिलों में 33 किसानों को उपहार स्वरूप ट्रैक्टर देगी. इसके अलावा हर जिले में 20 किसानों को बैटरी से चलने वाले स्प्रे और करीब 30 किसानों को टॉर्च भी मिलेगी। इस तरह से प्रत्येक जिले में 51 उपहार बांटे जाएंगे और राज्य के लगभग 1650 किसान इस योजना से लाभान्वित होंगे. 

बता दें कि राजस्थान के किसानों को यह उपहार एक लॉटरी के माध्यम से दिए जाएंगे. लॉटरी में शामिल होने की प्रक्रिया के बारे में इस लेख के अंत में बताया गया है इसलिए आप इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें. 

राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना के अंतर्गत मिलेंगे 4 करोड़ के पुरस्कार

राजस्थान बीज विकास निगम के चेयरमैन धीरज गुर्जर के मुताबिक राजस्थान सरकार ने राजावी गांधी किसान बीज उपहार योजना इस मकसद से लागू की है कि राज्य के किसानों को सस्ते और गुणवत्ता पूर्ण बीज उपलब्ध हो सके क्यूंकि राज्य सरकार मात्र तीन फीसदी लाभांश जोड़कर किसानों को बहुत ही सस्ते दामों पर बीज सप्लाई करती है. बीज निगम का दावा है की निगम की ओर से किसानों को दिए जाने वाले बीज बेहद उच्च गुणवत्ता वाले होते हैं. वहीं निगम के बीजों की कीमत निजी कंपनियों के बीज की तुलना में बहुत कम होती है.

बता दे कि इस योजना का लाभ उन्हीं किसानों को दिया जाएगा जो बीज निगम से अपनी फसल के लिए बीज खरीदेंगे. बीज निगम की ओर से ही प्रदेश के सभी जिलों में प्रत्येक जिले में 51 बंपर पुरस्कार प्रदान किये जाएगे. धीरज गुर्जर ने आगे कहा कि पिछली बार राजस्थान बीज विकास निगम को किसानों से अर्जित लाभ के रुप में 12 करोड़ रुपए प्राप्त हुए थे और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश पर किसानों से अर्जित लाभ को वापस किसानों को ही सौंपने का फैसला लिया गया है. इसलिए बीज निगम की ओर से रबी की फसल के बीज खरीद पर किसानों को कुल चार करोड़ रुपए के पुरस्कारों से नवाजा जाएगा यानी कुल मिलाकर इस साल इस योजना पर 4 करोड़ रूपये खर्च किए जाएंगे. 

इसके अलावा राजस्थान में राजफेड की तरफ से समर्थन मूल्य पर उड़द, सोयाबीन और मूंगफली की खरीद के लिए 27 अक्टूबर को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू कराया जाएगा. करीब 879 केंद्रों पर 1 नवंबर से सोयाबीन, उड़द और मूंगफली की खरीद शुरू होगी. 

ये भी पढ़े – 

Rajiv Gandhi Kisan Beej Uphar Yojana के लाभ एवं विशेषताएं 

राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना

  • राजस्थान राज्य बीज निगम ने राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना की शुरुआत 22 अक्टूबर 2022 को है. 
  • इस योजना के माध्यम से राजस्थान के हर एक जिले में 51 उपहार किसानों को लॉटरी के माध्यम से प्रदान किए जाएंगे. 
  • इस योजना के तहत निगम से बीज खरीदने वाले किसानों को राज्य के प्रत्येक जिले में लॉटरी के माध्यम से एक-एक ट्रैक्टर दिया जाएगा यानी राज्य के प्रत्येक जिले में एक किसान को ट्रैक्टर दिया जाएगा. 
  • साथ ही इस योजना के तहत प्रत्येक जिले के 20 किसानों को बैटरी चालित स्प्रे मशीन दी जाएगी. 
  • इसके अलावा प्रत्येक जिले के 30 किसानों को टॉर्च दी जाएगी. 
  • इस योजना को लागू करने का असल मकसद राज्य के किसानों को बहुत ही कम दामों पर और उच्च गुणवत्तापूर्ण बीज उपलब्ध कराना है. 
  • Rajiv Gandhi Kisan Beej Uphar Yojana पर राजस्थान सरकार इस साल 4 करोड रुपए खर्च करेगी. 

Rajiv Gandhi Kisan Beej Uphar Scheme का उद्देश्य

राजस्थान बीज निगम द्वारा राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य उपहार के माध्यम से किसानों को सस्ते और गुणवत्तापूर्ण विच उपलब्ध करवाना है. इस योजना का फायदा उठाकर किसान ट्रैक्टर तक जीत सकते हैं. राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना के तहत राज्य के प्रत्येक जिले में प्रथम पुरस्कार के रूप में एक-एक किसान को ट्रैक्टर दिया जाएगा. इसके अलावा इसमें बड़े उपहार भी शामिल हैं. प्रत्येक जिले पर 51 बंपर पुरस्कार प्रदान करने की योजना बनाई गई है.

राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना के लिए कौन-कौन पात्र है ?

  • आवेदक राजस्थान का स्थाई निवासी होना चाहिए. 
  • केवल राज्य के किसान ही इस योजना का लाभ उठा सकते हैं. 

राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना के लिए ज़रूरी दस्तावेज़ 

  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर
  • राशन कार्ड

Rajiv Gandhi Kisan Beej Uphar Yojana के मुख्य बिंदु

योजना का नाम राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना
किसने आरंभ की राजस्थान सरकार ने
योजना की शुरुआत कब हुई 22 अक्टूबर 2022 को
किस मंत्रालय द्वारा संचालित की जा रही है राजस्थान बीज विकास निगम
लाभार्थी राज्य के किसान
योजना का लाभ

राज्य के प्रत्येक जिले में 51 उपहार बांटे जाएंगे. प्रत्येक जिले के एक किसान को ट्रैक्टर, 20 किसानों को बैटरी चालित स्प्रे मशीन और 30 किसानों को टॉर्च दी जाएगी. 

योजना का मुख्य उद्देश्य

उपहार के माध्यम से राज्य के किसानों को बहुत ही कम दामों पर गुणवत्तापूर्ण बीज उपलब्ध करवाना. 

राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना के तहत आवेदन करने की प्रक्रिया 

राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना 2022-23 राजस्थान बीज निगम की ओर से शुरू की गई है. इस योजना का लाभ उठाने के लिए राज्य के किसानों को किसी भी प्रकार का आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है बल्कि इस योजना का लाभ लेने के लिए किसान को बस इतना करना होगा कि किसान को अपने नज़दीकी राजस्थान बीज निगम से बीज का थैला खरीदना होगा. किसान को इस थैले में एक कूपन मिलेगा. इस कूपन को बीज निगम की ओर से रखे गए बॉक्स में डालना होगा. इसके बाद राजस्थान बीज निगम की ओर से इन्हीं कूपनों के आधार पर हर जिले में लॉटरी निकाली जाएगी. जिन किसानों का नाम लाॅटरी में आएगा, उन्हें इस योजना के तहत ट्रैक्टर, बैटरी चलित स्प्रे मशीन और टॉर्च उपहार स्वरूप दी जाएगी. 

Rajiv Gandhi Kisan Beej Uphar Yojana Contact Number

  • 0141-2227514
  • 0141-5105069

ये भी पढ़े – 

FAQ

राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना कब लागू हुई?

राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना का शुभारंभ राजस्थान सरकार ने 22 अक्टूबर 2022 को दिवाली के शुभ अवसर पर किया था. इसे योजना के क्रियान्वयन की जिम्मेदारी राज्य सरकार ने राजस्थान बीज विकास निगम को सौंपी है. इस योजना को लागू करने का मुख्य उद्देश्य किसानों को उपहार के साथ-साथ बहुत ही कम दामो पर और उच्च गुणवत्तापूर्ण वाले बीज उपलब्ध कराना है.

राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना के तहत कौन-कौन से उपहार दिए जाएंगे?

इस योजना के तहत राज्य के प्रत्येक जिले में एक किसान को ट्रैक्टर, 20 किसानों को बैटरी चालित स्प्रे मशीन और 30 किसानों को टॉर्च दी जाएगी. यानी प्रत्येक जिले में 51 उपहार बांटे जाएंगे.

राजीव गांधी किसान बीज उपहार योजना का लाभ कैसे ले सकते हैं?

इस योजना का लाभ लेने के लिए किसान को अपने नजदीकी बीज निगम से बीज का थैला खरीदना होगा. उस थैले में एक कूपन होगा. उस कूपन को बीज निगम की ओर से रखे गए बॉक्स में डालना होगा. इसके बाद राजस्थान बीज निगम की ओर से इन्हीं कूपनों के आधार पर हर जिले में लॉटरी निकाली जाएगी. जिन किसानों का नाम लाॅटरी में आएगा, उन्हें इस योजना के तहत ट्रैक्टर, बैटरी चलित स्प्रे मशीन और टॉर्च उपहार स्वरूप दी जाएगी. 

Leave a Comment