Saur Krishi Aajeevika Yojana 2022: सौर कृषि आजीविका योजना ऑनलाइन आवेदन

SKAY Scheme Rajasthan | skay rajasthan | Saur Krishi Aajeevika Yojana Online Registration | राजस्थान सौर कृषि आजीविका योजना के अंतर्गत ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करें | SKAY Yojana Apply | सौर कृषि आजीविका योजना राजस्थान | सौर कृषि आजीविका योजना पोर्टल | Saur Krishi Aajeevika Yojana Portal

Saur Krishi Aajeevika Yojana

किसानो की आय बढ़ाने के साथ-साथ सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकार तमाम तरह की योजनाएं चला रही है जैसे पीएम कुसुम योजना. पीएम कुसुम योजना के अंतर्गत किसान अपने खेतों में बहुत ही कम कीमत पर सिंचाई के लिए सोलर पंप लगवा सकते है. वहीं राजस्थान सरकार ने भी सौर ऊर्जा के जरिए किसानों की आय बढ़ाने के लिए सौर कृषि आजीविका योजना (skay) की शुरुआत की है. इसलिए आज हम आपको इस लेख के माध्यम से Saur Krishi Ajeevika Yojana से जुड़ी सारी जानकारी मुहैया कराएंगे. जैसे इस योजना के क्या लाभ है?, इस योजना को लागू करने के क्या उद्देश्य है?, इस योजना का लाभ हासिल करने के लिए कौन-कौन पात्र है?, इस योजना के लिए आवेदन कैसे करना है? आदि. 

Saur Krishi Aajeevika Yojana 2022 (सौर कृषि आजीविका योजना क्या है?)

किसानों की आय को दोगुना करने के लिए और सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए राजस्थान सरकार विभिन्न प्रकार की योजनाओं को लागू कर रही है. इसी का ही नतीजा है कि सरकार अब कृषि को सौर ऊर्जा के साथ जोड़ने जा रही है. जी हां, जैसा कि आप जानते हैं केंद्र सरकार ने किसानों के लिए पीएम कुसुम योजना की शुरुआत की थी. इस योजना के अंतर्गत किसान अपने खेतों में सोलर पैनल लगाकर सिंचाई कर सकते हैं और सोलर पैनल के जरिए बनने वाली बिजली भी बेच सकते हैं. इन सभी योजनाओं का मकसद किसानों की आय को बढ़ाने के साथ-साथ सौर ऊर्जा को बढ़ावा देना है. 

इसी कड़ी में अब राजस्थान सरकार ने भी खाली और बेकार पड़ी जमीन और बंजर खेतों के लिये सौर ऊर्जा आजीविका योजना (Saur Urja Aajeevika Yojana) का शुभारंभ किया है. इस योजना के अंतर्गत किसान अपनी बंजर पड़ी जमीन पर सोलर प्लांट लगवाकर बढ़िया मुनाफा कमा सकते हैं. जिसके लिए सरकार द्वारा एक वेब पार्टल भी तैयार किया गया है.

दरअसल, Saur Krishi Aajeevika Yojana के अंर्तगत प्रदेश सरकार किसानों की बंजर या उपयोग में नहीं आने वाली जमीन को लीज पर लेगी और किसानों को उस बंजर या अनुपयोगी भूमि का किराया सरकार की ओर से दिया जाएगा. जिससे किसान को अतिरिक्त आय प्राप्त होगी. लीज पर लेने के बाद सरकार उस जमीन पर सौर ऊर्जा संयंत्र लगाएगी. इस सौर ऊर्जा संयंत्र से बिजली का उत्पादन होगा और आसपास के इलाकों में बिजली सप्लाई की जाएगी. इस योजना से ना सिर्फ प्रदेश में बिजली की खपत में कमी आएगी बल्कि सौर ऊर्जा के इस्तेमाल से पर्यावरण भी सुरक्षित रहेगा साथ ही किसानो की आमदनी में भी इज़ाफा होगा. 

कितने वर्षों के लिए आपकी जमीन लीज पर ली जाएगी?, लीज पर जमीन देने के बाद सरकार आपको प्रतिवर्ष कितना किराया देगी? इस योजना का लाभ लेने के लिए आपके पास कम से कम कितनी जमीन होनी चाहिए?, क्या किसानों के अलावा इस योजना का लाभ अन्य भू स्वामियों भी ले सकते है?, इस योजना का लाभ लेने के लिए कौन-कौन से दस्तावेजों की आवश्यकता होगी?, इस योजना के लिए आवेदन कैसे करना है? इन सभी सवालों का जवाब आपको इस आर्टिकल में मिल जाएगा. इसलिए आप इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें. 

Saur Krishi Aajeevika Yojana (SKAY) से इस तरह होगी कमाई

सौर कृषि आजीविका योजना के अंतर्गत आवेदन करने के बाद राजस्थान सरकार आप की जमीन कम से कम 25 वर्षों के लिए लीज़ पर लेगी और आपको प्रतिवर्ष सरकार की तरफ से लीज़ शुल्क अदा किया जाएगा. ध्यान रहे, हर दो साल में लीज शुल्क में 5% की बढ़ोतरी की जाएगी. आपकी जमीन को लीज पर लेने के बाद आपकी जमीन पर सोलर प्लांट लगाया जाएगा. सोलर प्लांट के जरिए बिजली का उत्पादन किया जाएगा और आसपास के इलाकों में बिजली की सप्लाई की जाएगी. इस प्रकार सौर ऊर्जा को भी बढ़ावा मिलेगा और किसानो की आय में भी बढ़ोतरी होगी. 

वार्षिक लीज़ शुल्क निम्नलिखित दर के अनुसार देय होगा

पंजीकरण के समय भूमि की डीएलसी दर (रुपये प्रति हेक्टेयर) वार्षिक लीज शुल्क (रुपये प्रति हेक्टेयर)
8 लाख तक 80,000 रूपये
8 लाख से अधिक और 12 लाख से कम 1,00,000 रूपये
12 लाख से अधिक और 20 लाख से कम 1,40,000 रूपये
20 लाख से अधिक 1,60,000 रूपये

ये भी पढ़े – 

सौर ऊर्जा आजीविका योजना के लाभ एवं विशेषताएं

  • सौर ऊर्जा आजीविका योजना का शुभारंभ राजस्थान सरकार ने हाल ही में किया है. 
  • इस योजना के क्रियान्वयन की ज़िम्मेदारी प्रदेश सरकार ने बिजली विभाग को सौंपी है. 
  • Saur Krishi Aajeevika Yojana (SKAY) के अंतर्गत किसान या अन्य भूस्वामी अपनी बंजर या उपयोग में नहीं आने वाली ज़मीन को लीज पर देकर बहुत बढ़िया मुनाफा कमा सकते हैं. 
  • सरकार उस जमीन पर सौर ऊर्जा प्लांट लगाकर बिजली का उत्पादन करेगी और आसपास के इलाकों में सप्लाई करेगी. जिसकी वजह से राज्य में बिजली की कमी नहीं होगी और हर गांव और शहर तक बिजली की उपलब्धता होगी. 
  • इसके अलावा सौर ऊर्जा को भी बढ़ावा मिलेगा क्योंकि सौर ऊर्जा पर्यावरण के लिए सदुपयोग होती है. 
  • SKAY योजना के अंतर्गत लाभार्थी की जमीन 25 वर्षों के लिए लीज पर ली जाएगी और हर साल प्रति हेक्टेयर के हिसाब से लीज शुल्क देय होगा. 
  • योजना के तहत लीज़ शुल्क प्रत्येक दो साल में 5% की दर से बढ़ाया जाएगा.
  • बाद में किसान / भूस्वामी एवं विकासकर्ता की आपसी सहमति से अनुबंध को आगे बढ़ाया जा सकेगा. 
  • इस योजना का सबसे बड़ा फायदा उन किसानों को होगा, जिनकी खेती की जमीन बंजर हो चुकी है और उनके पास इसके अलावा खेती करने योग्य कोई जमीन भी नहीं है. ऐसे किसान इस योजना का लाभ उठाकर बढ़िया मुनाफा कमा सकते हैं और अपने आर्थिक हालात सुधार सकते हैं. 
  • इस योजना का लाभ लेने के लिए किसान या भूस्वामी को सौर ऊर्जा आजीविका योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आवेदन करना होगा. आवेदन कैसे करना है इस लेख के अंत में बताया गया है. इसलिए आप इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें. 
  • आवेदन करने के बाद ही किसान या भूस्वामी इस योजना का लाभ पाने के हकदार होंगे. 
  • आवेदन पूर्ण होने के बाद संबंधित डिस्कॉम द्वारा सत्यापन की प्रक्रिया पूरी की जाएगी. जिसके बाद सभी जानकारी सही पाए जाने पर आगे की प्रक्रिया पूर्ण की जाएगी.

Saur Krishi Ajeevika Scheme का उद्देश्य 

हमारे देश में आज भी ऐसे बहुत से किसान हैं जिनकी खेती की जमीन बंजर हो चुकी है. उस ज़मीन पर ना तो कुछ बोया जा सकता है ना ही कुछ उगाया जा सकता है. जिसकी वजह से ऐसे किसानों के आर्थिक हालात बहुत कमजोर हो चुके हैं. आर्थिक तंगी से परेशान आकर बहुत से किसान तो आत्महत्या करने तक को मजबूर हो जाते हैं. किसानों के इसी हालात को देखकर ही राजस्थान सरकार ने सौर कृषि आजीविका योजना की शुरुआत की है. इस योजना के माध्यम से किसान अपनी बंजर जमीन को लीज पर देकर बढ़िया मुनाफा कमा सकते हैं और अपनी आर्थिक स्थिति को सुधार सकते हैं. इस योजना का लाभ किसान के अलावा अन्य भूस्वामी भी उठा सकते हैं. अगर देखा जाये तो इस योजना को लागू करने का असल मकसद किसानों की आर्थिक स्थिति को सुधारने के साथ-साथ सौर ऊर्जा को बढ़ावा देना भी है.

सौर कृषि आजीविका योजना के लिए कौन-कौन पात्र है?

सौर कृषि आजीविका योजना का लाभ कौन कौन ले सकता है. वो इस प्रकार है:-

  • आवेदक राजस्थान का स्थाई निवासी होना चाहिए. 
  • इच्छुक किसान / भूस्वामी (एकल / समूह) के पास कम से कम 1 हेक्टेयर तक की भूमि होनी चाहिए. 
  • इसके अलावा कोई भी भूमि मालिक जैसे व्यक्ति / किसानों के समूह, पंजीकृत सहकारी समितियों, संगठनों / संघों / संस्थानों आदि एवं इसके अतिरिक्त भी यदि कोई हो तो, इस योजना का लाभ उठा सकते है. 
  • किसानों / भूस्वामियों के समूह मामले में, समूह द्वारा किसी एक नामांकित व्यक्ति के पक्ष में उचित मुख्तारनामा (Power of Attorney) किया जाएगा. 
  • योजना के तहत किसी भी प्रकार की भूमि का पंजीयन पोर्टल पर किया जा सकता है लेकिन भूमि पर किसी भी प्रकार का विवाद या मुकदमा नहीं होना चाहिए. गलत सूचना देने पर किसान / भूमि मालिक जिम्मेदार होंगे और डिस्कॉम / डेवलपर्स द्वारा कोई मुआवजा / हर्जाना नहीं दिया जाएगा. 

सौर कृषि आजीविका योजना के लिए ज़रूरी दस्तावेज़ 

Saur Krishi Ajeevika Yojana Rajasthan के अंतर्गत आवेदन करने के लिए निम्न दस्तावेजों की आवश्यकता होगी. 

  • आधार कार्ड
  • पासपोर्ट साइज़ फोटो
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक पासबुक
  • भूमि से सम्बंधित सभी दस्तावेज़ जैसे भूमि स्वामित्व प्रमाण पत्र, खेत की खतौनी के कागजात, जमाबंदी आदि. 
  • एक भूमि के कई मालिक होने की स्थिति में, किसी एक नामांकित व्यक्ति के पक्ष में उचित मुख्तारनामा (Power of Attorney) पोर्टल पर अपलोड करना होगा. 

Saur Krishi Aajeevika Yojana Rajasthan के मुख्य बिंदु

योजना का नाम सौर कृषि आजीविका योजना
किसने आरंभ की राजस्थान सरकार ने
योजना की शुरुआत कब हुई अक्टूबर 2022 में
किस मंत्रालय द्वारा संचालित की जा रही है नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय
लाभार्थी

किसान / भूस्वामी

लाभ  इस योजना के माध्यम से किसान /  भूस्वामी अपनी बंजर जमीन या उपयोग में नहीं आने वाली जमीन को सरकार को लीज पर देकर अच्छा मुनाफा कमा सकते है. 
योजना का मुख्य उद्देश्य आमजन और किसानों की आय में बढ़ोतरी करने के साथ-साथ सौर ऊर्जा को बढ़ावा देना. 
आधिकारिक वेबसाइट

skayrajasthan.org.in

Saur Krishi Aajeevika Yojana के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन करने की प्रक्रिया

Saur Krishi Aajeevika Yojana Registration

  • होम पेज पर आने के बाद आपको Register Here पर क्लिक करना होगा. 
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा. 
सौर कृषि आजीविका योजना राजस्थान
  • इस पेज पर अपना मोबाइल नंबर दर्ज करें, अपना नाम दर्ज करें, यूजरटाइप सेलेक्ट करें और अंत में Submit के बटन पर क्लिक कर दे. 
  • अब आपके मोबाइल नंबर पर यूजर आईडी और पासवर्ड सेंड किया जाएगा. 
  • अब आपको यूजर आईडी और पासवर्ड का इस्तेमाल करके लॉग इन करना होगा. 

लॉग इन करने के लिए क्लिक करें

  • लॉग इन करने के बाद आपके सामने आवेदन फॉर्म खुलकर आ जाएगा. 
  • आवेदन फॉर्म में मांगी गई सभी जानकारी दर्ज करें और संबंधित दस्तावेज अपलोड करें. 
  • अंत में आवेदन शुल्क का ऑनलाइन भुगतान करें और सबमिट बटन पर क्लिक कर दे. 

सौर कृषि आजीविका योजना का लाभ लेने के लिए किसान या भू मालिक को 1180 रुपए प्रति आवेदन का पंजीकरण शुल्क अदा करना होगा.

इसके अलावा सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने वाली कंपनी (Developer) को पंजीकरण शुल्क के तौर पर 5900 रुपए जमा कराने होंगे. 

  • सफल भुगतान के पश्चात, एक पंजीकरण आईडी आवेदक के पंजीकृत मोबाइल नंबर पर भेज दी जाएगी. 
  • इस प्रकार आपका सौर कृषि आजीविका योजना के अंतर्गत आवेदन पूर्ण हो जाएगा. 
  • अब आपके आवेदन की संबंधित डिस्कॉम द्वारा जांच की जाएगी. 
  • सभी जानकारी सही पाए जाने पर आगे की कार्रवाई पूर्ण की जाएगी. 

Saur Krishi Aajeevika Yojana Yojana Toll Free Number / Helpline Number 

  • सौर कृषि आजीविका योजना से जुड़ी किसी भी प्रकार की शिकायत या जानकारी के लिए आपको इस योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर Contact Us के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा. 
  • Contact Us के ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने वितरण कंपनी का नाम, नोडल अधिकारी का नाम, पता, ईमेल आईडी और फ़ोन नंबर शो होगा. 
  • अब आप ईमेल आईडी या फ़ोन नंबर पर संपर्क कर अपनी समस्या का समाधान पा सकते है. 

 

ये भी पढ़े – 

FAQ

सौर कृषि आजीविका योजना कौन से राज्य में लागू है?

सौर कृषि आजीविका योजना के अंतर्गत केवल राजस्थान के निवासी ही आवेदन कर सकते हैं. इस योजना के माध्यम से राजस्थान सरकार किसानों / भू मालिक की बंजर या उपयोग में नहीं आने वाली जमीन को लीज पर लेती है और जमीन के मालिक को प्रतिवर्ष लीज़ शुल्क अदा करती है. लीज पर ली गई जमीन पर डेवलपर द्वारा सोलर प्लांट स्थापित किया जाता है. इस सोलर प्लांट के जरिए बिजली का उत्पादन होता है और आसपास के इलाकों में सप्लाई की जाती है.

सौर कृषि आजीविका योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक के पास न्यूनतम कितनी जमीन होनी चाहिए?

सौर कृषि आजीविका योजना का लाभ हासिल करने के लिए किसान या मालिक के पास न्यूनतम 1 हेक्टेयर तक की जमीन होनी चाहिए. जमीन पर कोई विवाद या मुकदमा नहीं होना चाहिए. अगर जानकारी गलत पाई जाती है तो आवेदक को इस योजना का लाभ नहीं दिया जाएगा.

सौर कृषि आजीविका योजना राजस्थान की आधिकारिक वेबसाइट क्या है?

सौर कृषि आजीविका योजना की ऑफिशियल वेबसाइट skayrajasthan.org.in है.

Leave a Comment